कितने अजब रंग समेटे है, ये बेमौसम बारिश खुद में
अमीर पकोड़े खाने की सोच रहा है और किसान जहर

~ विशाल

Comments

comments